राजनीति निर्लज्जता से जनता को बहुत दिनों तक गुमराह नहीं किया जा सकताः हेमंत

राजनीति निर्लज्जता से जनता को बहुत दिनों तक गुमराह नहीं किया जा सकताः हेमंत

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के परिणाम पर प्रतिक्रिया प्रतिपक्ष नेता हेमंत ने दिया

रांची। झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के कार्यकारी अध्यक्ष और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के परिणाम पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि इस चुनाव परिणाम से यह साफ हो गया है कि प्रचंड प्रचारतंत्र, बेहद मजबूत धनतंत्र तथा राजनीतिक निर्लज्जता से जनता को बहुत दिनों तक गुमराह नहीं किया जा सकता है।
हेमंत ने कहा कि यह परिणाम यह भी संकेत दे रहे है कि आर्थिक मंदी, बढ़ती बेरोजगारी एवं किसानों की दयनीय स्थिति का कुप्रभाव अब घर-घर में महसूस किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि झारखंड में भी जिस प्रकार धनतंत्र और शासनतंत्र का इस्तेमाल हो रहा है, वह भाजपा और रघुवर दास के हताशा को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि झारखंड में यह लड़ाई राज्य को लूटने वाले और राज्य के लिए संघर्ष करने वालों के बीच है। राज्य में जमीनी हकीकत बेहद पीड़ादायक है और लोग परिवर्तन का मन बना चुके हैं, परिणाम शीघ्र आएगा।
उन्होंने कहा कि जो विधायक जनता को धोखा देकर अपना राजनीतिक परिवार त्याग कर भाजपा के शरणार्थी शिविर में शामिल हुए, उनलोगों ने राजनीतिक आत्महत्या की है। ऐसे तो वे उनके राजनीतिक सहयोगी रहे हैं, उन्हें शुभकामनाएं लेकिन 2014 चुनाव के बाद से ही भाजपा ने जिस प्रकार अपार धन का उपयोग करके राज्य के विधायकों की खरीद-बिक्री की है और पूरे राज्य को लूटा है, उससे झारखंडियों का दिल टूटा है। पूरे देश में झारखंड बदनाम हुआ है और लोकतंत्र लहुलुहान हुआ है। जनता भाजपा को उनके कुकृत्यों की सजा जरूर देगी।

महाराष्ट्र में एनडीए की सरकार तय, चंडीगढ़ में जेजेपी बनेगी किंग मेंकर

महाराष्ट्र में 288 सीट के रुझान
भाजपा अन्य- 160
कांग्रेस व अन्य- 98
अन्य-31

हरियाणा में 90 सीट के रुझान
भाजपा- 40 सीट
कांग्रेस-31 सीट
जेजेपी-10
अन्य-09

हुड्डा ने गढ़ी सांपला-किलोई से भाजपा प्रतिद्वंद्वी को भारी मतों के अंतर से हराया
हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने सत्तारुढ़ भाजपा के उम्मीदवार सतीश नांदल को बृहस्पतिवार को भारी मतों के अंतर से पराजित किया। पार्टी के राज्य विधायक दल के नेता हुड्डा ने नांदल को अपने गढ़ रोहतक जिले की गढ़ी सांपला-किलोई सीट से 58,312 मतों के अंतर से हराया।

मेरा क्या है, मैं तो छुट्टी ले नहीं सकता, इसलिए मैं आप लोगों से मिलने का मौका तलाशते रहता हूं: पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी से वीडियो कांफ्रेंस कर कार्याकर्ताओं को संबोधित किया। उन्होंने कहा, आप कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर मेरा उत्साह बढ़ जाता है। त्यौहार के समय लोग अपने बड़ों से आशीर्वाद लेने के लिए छुट्टियों में अपने घर जाते हैं। मेरा क्या है, मैं तो छुट्टी ले नहीं सकता, इसलिए मैं आप लोगों से मिलने का मौका तलाशते रहता हूं। पीएम मोदी ने इस दौरान देश के जवानों को याद किया और कहा, अपनी खुशियां मनाते समय उन सभी को याद करना चाहिए, जो हमारी सुरक्षा में दिन-रात लगे रहते हैं।
प्रेस कांफ्रेंस में फडणवीस ज्यादा कुछ नहीं बोले और कहा, मैं पीएम मोदी, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह का, कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे का विश्वास जताने के लिए आभार व्यक्त करता हूं। उन्होंने आगे कहा, महायुती में विश्वास जताने के लिए जनता का आभार, आशा करता हूं कि उम्मीदों पर खड़ा उतरूंगा। इधर फडणवीस ने साफ कर दिया है कि महाराष्ट्र में अगली सरकार भाजपा-शिवसेना महागठबंधन की बनने वाली है।

महाराष्ट्र के नतीजे सामने के साथ ही शिवसेना ने भाजपा पर मुख्यमंत्री पद को लेकर दबाव बनाना शुरू कर दिया है। शिवसेना भवन में उद्धव ठाकरे ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा, मैं किसी भी दबाव में झुका नहीं हूं। जनादेश सबकी आखें खोलनी वाली है। महाराष्ट्र के अगले मुख्यमंत्री के सवाल पर उन्होंने कहा, यह अहम होगा। सीएम पर 50-50 के फॉर्मूले पर शिवसेना नहीं झुकेगी। गृह मंत्री अमित शाह से मुख्यमंत्री के फॉर्मूले पर चर्चा होगी। फॉर्मूला तय होने के बाद ही दावा पेश करेंगे। उद्धव ने कहा, जनता का आर्शीवाद दोबारा मिला है। अगले 5 साल ईमानदारी के साथ काम करुंगा। उद्धव ठाकरे ने देवेंद्र फडणवीस से बातचीत पर कहा, हमदोनों ने एक-दूसरे को बधाई दी। उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस के बारे में पूछा, इसके अलावा कोई बात नहीं हुई। प्रेस कांफ्रेंस में आदित्य ठाकरे भी मौजूद थे।

Niraj Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

जनजातीय जीवन पद्धति की परंपरा को अपना लेते तो ग्लोबल वार्मिंग की चिंता नहीं होतीः प्रफुल्ल

Fri Oct 25 , 2019
जनजातीय जीवन पद्धति की परंपरा को अपना लेते तो ग्लोबल वार्मिंग की चिंता नहीं होतीः […]