नेम निष्ठा के साथ महापर्व छठ का दूसरे दिन खरना संपन्न, पहला अर्ध्य आज

दुमका का छठ घाट सज-धज कर तैयार, पहला अर्घ्य आज

दुमका, 19 नवंबर। लोक आस्था के चार दिवसीय महापर्व छठ के दूसरे दिन गुरुवार को खरना पूरे विधि-विधान के साथ सम्पन्न हुआ। शुक्रवार को पहली अर्घ्य एवं शनिवार को दूसरी अर्घ्य है। खरना के लिए सुबह से ही छठ व्रतियों के घर आंगन में विशेष तैयारी शुरू हो गई थी। छठ व्रती महिलाएं दिन भर खरना की तैयारी में व्यस्त रही। छठव्रती महिलाएं दिन भर निर्जला रह कर शाम को नेम निष्ठा के साथ मिट्टी के चूल्हे पर आम की लकड़ी से प्रसाद के रूप में दूध और गुड़ की खीर और पुड़ी का प्रसाद तैयार किया और भक्ति भाव से छठ मइया की पूजा अर्चना कर प्रसाद ग्रहण किया। इसके बाद घर के सदस्यों और रिश्तेदारों तथा पास पड़ोस के लोगों को भी खरना का प्रसाद पाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।

छठ भगवान भास्कर की अराधना का पर्व है। इस पर्व में पवित्रता और शुद्धता का विशेष ख्याल रखा जाता है। शुक्रवार को छठव्रती और श्रद्धालु पूरे विधि विधान के साथ अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देंगे और भगवान भास्कर की अराधना करेंगे। शनिवार को उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही पर्व का समापन होगा। छठ व्रतियों ने छठ पूजा में इस्तेमाल होने वाले सामानों की जमकर खरीदारी की। विभिन्न प्रकार के मौसमी फलों एवं पूजन सामग्रियों के लिए यहां यज्ञ मैदान में खरीदारों की भीड़ उमड़ी। टीन बाजार में पूजन सामग्रियों की भी दुकाने लगी रही जिसके कारण यज्ञ मैदान में भीड़ में थोड़ी कमी आई। फल दुकानदारों ने अपने ही दुकानों में अतिरिक्त फल, नारियल, नींबू आदि पूजा सामग्री काफी मात्रा में उतारा है। खरीदारों की भीड़ लगी हुई है। पूजा के अन्य सामग्रियों की दुकाने यज्ञ मैदान में सजी हुई है।

विधायक बसंत सोरेन ने किया छठ घाटो का निरीक्षण

दुमका। दुमका में छठ पूजा की तैयारी को लेकर दुमका के विधायक बसंत सोरेन गुरुवार को खुटाबांध तालाब व बड़ा बांध तालाब का निरीक्षण किया। इस अवसर पर उनके साथ कई कार्यकत्र्ता शामिल थे। खुटाबांध तालाब में की तैयारी को देखकर विधायक बसंत सोरेन खुश नजर आए। उन्होंने कहा कि छठ पूजा पर खुटाबांध तालाब की अच्छी साफ सुथरा व सजाया गया है। वहां के समिति के सदस्यों इसकी प्रशंसा की इसके बाद विधायक बसंत सोरेन बड़ा बांध तालाब पहुंचकर घाटों का मुलायना किया।

admin

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

नीलोत्पल मृणाल का गाया छठ गीत जगमग करे, इ संसार बना इस वर्ष का सबसे लोकप्रिय छठ गीत

Thu Nov 19 , 2020
दुमका के नोनीहाट गांव के रहने वाले साहित्यकार एवं लेखक निलोत्पल मृणाल का गाया छठ […]

You May Like