नशे में धुत युवकों में पार्टी झंडा लगाने को लेकर हुई मारपीट, भाजपा भुनाने में जुटी

दुमका, 15 अक्टूबर। उपचुनाव को लेकर राजनीतिक दलों में नोक-झोक तेज हो चुकी है। बीते रात बुधवार को सदर प्रखंड के मुफस्सिल थाना क्षेत्र में झंडा लगाने को लेकर भाजपा और झामुमों कार्यकर्त्ता आपस में भिड़ गये। दोनों तरफ से मारपीट में दो युवक घायल हो गया। घायलों को मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज कराया गया। हलांकि गुरूवार को दोनों पक्षों में आपसी सुलह समझौता हो गया। इससे इतर भाजपा इसे चुनावी रंग देने में जुट गई। भाजपा कार्यकर्त्ता विनोद मरांडी का कुशलता जानने भाजपा प्रत्याशी डॉ लोईस मरांडी मेडिकल कॉलेज अस्पताल पहुंची। चुनावी दौर में इसका लाभ लेने के लिए सोशल मीडिया पर भाजपा समर्थकों द्वारा खूब प्रसारित किया जा रहा है। यहां बता दें कि वर्ष 2014 में ऐन वक्त पर मतदान से पूर्व सदर प्रखंड में ही झामुमों और भाजपा कार्यकर्त्ता के बीच नोक-झोक और मारपीट हुई थी। जिसके विरोध में भाजपा उम्मीदवार डॉ लुईस मरांडी धरना पर बैठ गई थी। जिसका लाभ भाजपा को मिला और जीत सुनिश्चित हुई थी। इसी आस में भाजपा समर्थक एक बार पुनः इस घटना को भुनाने में लगे हुए है। हलांकि असलियत कुछ ही निकली। मुफस्सिल थाना क्षेत्र के सदर प्रखंड के बागडूब्बी गांव निवासी राजेंद्र सोरेन एवं बिनोद मरांडी के बीच पूर्व से जमीन विवाद को लेकर रंजीश चल रही थी। जो चुनावी महौल में और आपसी रंजीश और तल्ख हो गया। दोनों शराब के नशे में एक-दुसरे से भिड़ गए। जबकि रात में विनोद मरांडी ने झंडा लगाने के विवाद में मारपीट होने की बात कही। लेकिन गुरूवार की सुबह नशा फटते ही होश में आ गये और थाना परिसर में आपसी सुलह समझौता करते हुए नशा की हालत में आपस में भिड़ने की बात कहते हुए रफा-दफा कर दिया।z

admin

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हेमंत सरकार में संताल परगना की बेटियां सुरक्षित नहीं, नैतिकता के नाते दे इस्तीफाः मिस्फीका हसन

Fri Oct 16 , 2020
दुमका, 16 अक्टूबर। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश प्रवक्ता मिस्फीका हसन ने संथाल परगना में बेटियों […]