आदिवासियों के दुर्दशा का जिम्मेवार है आदिवासी नेताः सूर्य सिंह बेसरा

झारखंड की राजनीति में मुद्दा नहीं मुद्रा की चलती है राजनीति

दुमका, 15 अक्टूबर। आदिवासियों के दुर्दशा का जिम्मेवार आदिवासी नेता है। आदिवासी नेता को विधायक और सांसद और मुख्यमंत्री बनने का मौका मिला। आदिवासी नेता को मौका ही मौका मिला और आदिवासी को धोखा ही धोखा मिला। भाजपा और झामुमों एक ही थाली के चट्ठे बठ्ठे है। उक्त बातें आजसू के संस्थापक सह जेपीपी केंद्रीय अध्यक्ष सूर्य सिंह बेसरा ने प्रेसवार्ता आयोजित कर गुरूवार को कहा। उन्होंने कहा कि राज्य बने 20 सालों में 11 मुख्यमंत्री बने। जबकि 10 मुख्यमंत्री आदिवासी रहे। इसके बावजूद भी आदिवासियों की स्थिति नहीं सुधरी। किसी आदिवासी मुख्यमंत्री ने भी आदिवासियों का सूधी नहीं लेने का काम किया। उन्होंने कहा कि दुमका उप विधानसभा चुनाव से नामांकन करने पहुंचे है। उन्होंने कहा कि महाभारत के एकल्व बनकर विधानसभा चुनाव लड़ने आया हूं। झारखंड के आंदोलकारी नेता दिसोम गुरू शिबू सोरेन है। द्रोणाचार्य शिबू सोरेन से एकल्व बन कुछ मांगने आया हूं। उन्होंने कहा कि झारखंड आंदोलनकारियों को चिन्हित करने, आदिवासी समिति का गठन करने सहित तमाम आग्रह करने आया हूं। उन्होंने कहा कि आंदोलनकारियों को चिन्हित कर उनके परिवार में एक को नौकरी देने और 20 हजार पेंशन की मांग किया। उन्होंने कहा कि जनता की अदालत में 20 साल का हिसाब-किताब पक्ष और विपक्ष दोनों से मांगेगे। उन्होंने कहा कि 15 साल भाजपा और झामुमों और कांग्रेस ने 5 साल शासन किया। उन्होंने कहा कि उनके पास मुद्दा ही मुद्दा है। मेरे पास मुद्रा नहीं है और मतदाताओं का लुभाने के लिए मुद्रा नहीं है। झारखंड की राजनीति में मुद्दा नहीं मुद्रा की राजनीति चलती है। आदिवासियों का तो मुद्रा भी चलता है और मदिरा भी चलता है। उन्होंने दुमका की जनता से अपील करते हुए कहा कि वह राजनीति करने नहीं, दुमका की जनता का अवाज बनने आया हूं। पक्ष और विपक्ष दोनों को जनता के कटघरे में खड़ा करने आया हूं। उन्होंने कहा जनहित याचिका में मधुकोड़ा 4500 करोड़, एनोस एक्का 400 करोड़, कांग्रेसी 200 करोड़ किया। इस प्रकार 20 साल में 60 हजार करोड़ का घोटाला किया गया। उन्होंने कहा कि झारखंड वह राज्य है जहां खोजेंगे वहां भ्रष्टाचार, जहां खोदोगे वहीं भ्रष्टाचार है। खजिनों से भरा झारखंड को आदिवासी नेता ने लूटने का काम किया। सोने के कटोरे में झारखंड की जनता भिख मांगने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि राज्य में 8 से 9 विश्ववविद्यालय है। लेकिन एक भी नेता और मंत्री स्नातक पास नहीं है। उन्होंने कहा कि मेरा मांग है कि चुनाव में उतरने के लिए उम्मीदवार की योग्यता कम से कम स्नातक होना अनिवार्य हो। इस अवसर पर केंद्रीय महासचिव अनिल मरांडी, प्रेम किस्कू आदि उपस्थित थे।

admin

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

नशे में धुत युवकों में पार्टी झंडा लगाने को लेकर हुई मारपीट, भाजपा भुनाने में जुटी

Thu Oct 15 , 2020
दुमका, 15 अक्टूबर। उपचुनाव को लेकर राजनीतिक दलों में नोक-झोक तेज हो चुकी है। बीते […]

You May Like