गोटा भारोत सिदो कान्हू हूल बैंसी ने डाक्टरों को किया सम्मानित

दुमका, 30 अगस्त। जोहार मानव विकास संस्थान में गोटा भारोत सिदो कान्हू हूल बैसी एवं जोहार के संयुक्त तत्व धान में रविवार को एक समारोह का आयोजन हुआ। समारोह में डा. धुनी सोरेन एवं उनकी धर्म पत्नी भगवती हेम्ब्रम् का अभिनन्दन किया गया। इस समारोह में फूलो झानो मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डा. हीरालाल मुर्मू एवं आस-पास क्षेत्र में पदस्थापित आदिवासी डाक्टरों का भी सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। इस समारोह में मुख्य रूप से डा. प्रमोदिनी हांसदा, ई. जे. सोरेन, सिरिल सोरेन उपस्थित थे। इसके अलावे सिदो कान्हु मुर्मू विश्वविद्यालय एवं कालेज के शिक्षकों में प्रो. मेरी मारग्रेट टुडू, डा. अंजूला मुर्मू, प्रो. अमित मुर्मू, प्रो. निर्मल मुर्मू उपस्थित थे। सम्मानित होने वाले डाक्टरों डा. एलिज़ाबेथ टुडू, डा. नारायण हांसदा एवं उनकी पत्नी डा. मनिता मरांडी, डा. एलविस विशाल सौरभ दादेल, डा. प्रीतम मरांडी, डा. विश्वानाथ मरांडी को सम्मानित किया गया। बैसी सचिव गमालिएल हांसदा एवं डा. अंजुला मुर्मू द्वारा मंच का संचालन किया गया। डा. प्रमोदिनी हांसदा द्वारा अतिथियों का स्वागत किया गया। एमानुवेल मुर्मू ने स्वागत गान एवं धन्यवाद ज्ञापन किया। मुख्य अतिथि डा. धूनी सोरेन एवं उनकी धर्मपत्नी भगवती हेम्ब्रम् को शाल एवं पंछी ओढ़ा कर सम्मानित किया गया। बैसी के पूर्व सचिव सुलेमान मरांडी द्वारा सहयोग किया गया। समारोह में बैसी के सद्स्य विजय टुडू भी उपस्थित थे। बैसी के कोषाध्यक्ष सनातन मुर्मू द्वारा समारोह का अन्य आवश्यक व्यवस्था किया गया। खाने-पीने का व्यवस्था में कोषाध्यक्ष सनातन मुर्मू को अंथोनी एवं मनीष एवं उनके टीम ने सहयोग किया। डा. धुनी सोरेन ने अपने पैतृक गांव बोआरीजोर से इंग्लैंड लीवरपूल तक की यात्रा एवं अपनी शुरुआती शिक्षा से लेकर डाक्टर बनने तक का अनुभव साझा किया।

admin

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आदिवासी व पहाड़िया टोला के ग्रामीण चंदा एकत्रित कर बना रहे 4 किमी सड़क

Sun Aug 30 , 2020
मूलभुत सुविधाओं के अभाव में वर्षो से जीने को विवश है ग्रामीण दुमका, 30 अगस्त। […]

You May Like