पहली बार सावन में घर बैठे ऑनलाईन भक्त करेंगे बाबा बासुकीनाथ का दर्शन, नहीं कर सकेंगे जलार्पण

कोरोना संक्रमण को लेकर पहली बार सावन में घर बैठे ऑनलाईन भक्त करेंगे बाबा बासुकीनाथ का दर्शन, नहीं कर सकेंगे जलार्पण

हाईकोर्ट एवं सरकार के आदेशों की अवहेलना बर्दास्त नहीं की जायेगीः डीसी राजेश्वरी बी

दुमका, 05 जुलाई। श्रावणी मेला में बाबा बासुकीनाथ दर्शन को लेकर प्रशासनिक भवन सभागार में मंदिर पंडा समाज के सदस्यों के साथ जिला प्रशासन की बैठक आयोजित हुई। बैठक की अध्यक्षता डीसी राजेश्वरी बी ने की। बैठक में डीसी राजेश्वरी बी ने बताया कि कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण के कारण झारखंड सरकार और हाईकोर्ट ने बाबा बासुकिनाथ मंदिर को बंद रखने का आदेश दिया है। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इस बार श्रावणी मेले का आयोजन बंद रखा जायेगा। सावन माह में श्रद्धालुओं व शिवभक्तों को बाबा का दर्शन कराने के लिए सरकार एवं जिला प्रशासन ने ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था कर रही है। सावन माह सोमवार 6 जुलाई से शुरू हो रहा है। शिवभक्त जो जहां हैं, वे वहीं से बाबा का ऑनलाईन दर्शन कर पायेंगे। डीसी ने बताया कि सावन के महीने में मंदिर और आस-पास श्रद्धालुओं का प्रवेश निषेध है। सीमाओं को सील कर दिया गया है। जगह-जगह चेकपोस्ट बनाये गये हैं। जिससे किसी भी वाहन का प्रवेश जिले में नहीं हो सके। बिहार-बंगाल और अन्य राज्यों से आने वाले वाहनों को शहर में प्रवेश निषेध रहेगा। इंट्री के लिए ई-पास की आवश्यकता होगी। बासुकिनाथ मंदिर में सुबह की पूजा और श्रृंगार का वर्चुअल दर्शन भक्त कर पायेंगे। इसके लिए जिला प्रशासन ने विभिन्न टीवी चैनलों, सोशल मीडिया, वेबपेज आदि पर प्रसारण की व्यवस्था कर रही है। इस वर्ष मंदिर के सौंदर्यीकरण का भी कार्य होना है। मंदिर में किसी प्रकार की मरम्मती की आवश्यकता है, तो उसकी भी मरम्मतीकरण कराया जाएगा। डीसी ने कहा कि ऐसी व्यवस्था की जा रही है कि भक्त बाबा का दर्शन हर रोज कर सकें। पूजा का समय सावन के लिए निर्धारित होगा। समय का प्रचार प्रसार टीवी चैनलों व सोशल मीडिया के माध्यम से किया जायेगा। जिससे लोग सही समय पर टीवी या सोशल साइट पर ऑनलाइन दर्शन कर सकें।

बाबा मंदिर में प्रवेश करने वाले के खिलाफ होगी विधिसम्मत कार्रवाईः एसपी
एसपी अंबर लकड़ा ने बताया कि तालझारी, सरैयाहाट, शिकारीपाड़ा सहित मंदिर के आसपास चेकपोस्ट बनाये गये हैं। सभी जगहों पर पर्याप्त संख्या में पुलिस बल के साथ दंडाधिकारियों व पुलिस अफसरों को तैनात किया गया है। कोई भी भक्त बाबा मंदिर में प्रवेश नहीं करेगा। इसके लिए सीसीटीवी कैमरे से मंदिर की निगरानी भी की जाएगी। बाबा मंदिर में किसी को प्रवेश करते देखता जाता है तो आपदा प्रबंधन एक्ट के तहत विधिसम्मत कार्रवाई की जाएगी।

पंडा समाज ने प्रशासन को सहयोग का दिया आश्वासन
पंडा समाज के सदस्यों ने भी जिला प्रशासन को सहयोग करने की बात कही। उन्होंने कहा कि कोरोना के इस जंग हम सरकार एवं जिला प्रशासन के साथ हैं। मंदिर में किसी भक्त को प्रवेश करने नहीं दिया जाएगा। उन्होंने आनंद भैरो और काल भैरों मंदिर का मरम्मती करने की बात डीसी के समक्ष रखी। डीसी ने अविलंब संबंधित अधिकारियों को जांचकर रिपोर्ट देने का निर्देश दी।

Niraj Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

राजद स्थापना दिवस पर महंगाई के खिलाफ निकाला साईकिल मार्च

Sun Jul 5 , 2020
राजद स्थापना दिवस पर महंगाई के खिलाफ निकाला साईकिल मार्च दुमका, 05 जुलाई । राष्ट्रीय […]

You May Like