आयुष्मान भारत योजना के तहत होगी कोरोना की जांच मुफ्त

आयुष्मान भारत योजना के तहत होगी कोरोना की जांच मुफ्त

सुप्रीम कोर्ट ने 8 अप्रैल को दिया था हर किसी की कोरोना जांच मुफ्त करने का निर्देश

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने निजी लैब में मुफ्त कोरोना जांच के आदेश में बदलाव किया है। कोर्ट ने कहा कि लैब उनसे 4500 रुपये तक ले सकते हैं, जो देने में सक्षम हैं। जो लोग आयुष्मान भारत योजना के दायरे में आते हैं, सिर्फ उनकी जांच मुफ्त होगी। सुनवाई के दौरान इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने कोर्ट से निजी लैब को कोरोना जांच मुफ्त में करने के आदेश को बदलने की मांग की। आईसीएमआर ने कहा कि इस पर कार्यपालिका को फैसला लेने दीजिए क्योंकि इस आदेश से जांच प्रभावित होगी। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने इस बात को नोट किया कि अब तक जितने टेस्ट हुए हैं उसमें 87 फीसदी सरकारी लैब में मुफ्त में हुए हैं। कोर्ट ने पाया कि आयुष्मान भारत योजना के तहत देश के 50 करोड़ लोग कोरोना का मुफ्त जांच करवा सकते हैं। कोर्ट ने कोरोना से निपटने में केंद्र सरकार के कामों की तारीफ की। सीनियर आर्थोपेडिक सर्जन डॉक्टर कुशल कांत ने दायर याचिका में कहा था कि निजी लैब को कोरोना की जांच का मुफ्त आदेश देने से पहले से कम हो रही जांच और कम होने का अंदेशा है। याचिका में कहा गया था कि जांच के लिए आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए एक अलग कोटा बनाया जाना चाहिए जो इस जांच के लिए पैसे देने में असमर्थ हैं। याचिका में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट अपने 8 अप्रैल के आदेश में संशोधन करे और आदेश दे कि निजी लैब को आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लोगों का कोरोना जांच की फीस का भुगतान सरकार करेगी। याचिका में कहा गया था कि सुप्रीम कोर्ट स्थानीय नगरपालिकाओं और पंचायत क्षेत्रों में भी लैब स्थापित करने का आदेश दे। याचिका में देशभर में हो रही जांच की क्षमता की समीक्षा की मांग की गई थी। याचिका में कहा गया था कि दूसरे देशों में जितनी टेस्टिंग की जा रही है उसके मुकाबले हमारे देश में काफी कम टेस्टिंग हो रही है। इसे जरूरत के अनुसार बढ़ाया जाए। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने पिछले 8 अप्रैल को निर्देश दिया था कि सरकारी लैब या निजी लैब में कोरोना जांच मुफ्त किया जाए। जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस रविंद्र भट्ट ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हुई सुनवाई में ये आदेश जारी किया था।

Niraj Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

दूसरे राज्य में फंसे 1392 मजदूरों के रहने और खाने का किया जा रहा व्यवस्थाः डीसी

Tue Apr 14 , 2020
दूसरे राज्य में फंसे 1392 मजदूरों के रहने और खाने का किया जा रहा व्यवस्थाः […]

You May Like