बिछुड़े नवविवाहित जोड़ी को मध्यस्था कर प्राधिकार ने किया विदा

तीन साल से बिछुड़े नवविवाहित जोड़ी को मध्यस्था कर प्राधिकार ने किया विदा

आमने-सामने रहने के बावजूद तीन साल अलग रहे प्रेम विवाह किए दंपति

दुमका। मध्यस्था में एक बार फिर तीन साल से बिछुड़े परिवार को मिलाया गया। कहानी है मिन्नी देवी की, जो पति समेत ससुराल वालों के खिलाफ प्रताड़ना का केस दर्ज करवाया था। दिलचस्प बात तो है यह कि प्रेम विवाह करने वाले राजा चालक एक ही गांव का है। संयोग कहे या फिर विधि का विधान दोनों एक ही गांव, एक ही टोला के आमने-सामने रहने वाले है। प्रेम विवाह जून 2016 में दोनों ने किया था। दोनों से ढ़ाई साल का रणवीर चालक बेटा है। मिनी शादी के बाद ससुराल में महज तीन माह ही बीता सकी थी कि ससुराल वालों से प्रताड़ना से तंग आकर मामला दर्ज करवा मायके में रहने लगी। मामला हंसडीहा थाना क्षेत्र के नोनीहाट के समीप वृदावन गांव की है। व्यवहार न्यायालय के एसडीजेएम न्यायालय में वाद जीआर नंबर 89/17 है। मामला जिला विधिक सेवा प्राधिकार न्यायालय में पहुंचा। जहां महज दो तिथि में काउंसेलिंग कर दोनों परिवारों को प्रशिक्षित मध्यस्थ अधिवक्ता कुमार प्रभात ने दोनों परिवार को आपसी-सुलह समझौता से मिलवाया। प्राधिकार सचिव विश्वनाथ भगत ने मानवी संवेदना दिखाते हुए तत्परता दिया मामले में सुलह करा विदाई दी। प्राधिकार न्यायालय में 18 दिसंबर 2019 में मामला आया था। जहां दो तिथि में दोनों पक्षों को संयुक्त एवं बारी-बारी से समझा-बुझा आपसी सुलह समझौता करवाया गया। केस में बहस पीड़िता के पक्ष से अधिवक्ता संजीव कुमार और बचाव पक्ष से हिमांशु शेखर कर रहे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *