छठ पूजा का बाजार गरमाया, खरीदारों की रही भीड़

छठ पूजा का बाजार गरमाया, खरीदारों की रही भीड़

फलों के भाव में आई तेजी

साहिबगंज । लोकआस्था सूर्योपासना का महापर्व छठ को लेकर गुरुवार को शहर स्थित बाजार पूरी तरह से सज चुका है। बाजार में नारियल, सूप, केला, सेव, गन्ना की डाली की ब्रिकी जोरों पर रही। महापर्व का बाजार शनिवार को पहले अर्ध्य से पहले समाप्त होगा। जबकि गुरुवार को नहाय खाई से ही शहर के हर चौक-चौराहा पर फुटकर दुकानदारों ने दुकान लगा कर पूजा से संबंधित सामानों की ब्रिकी शुरू कर दी। खरीदारी को लेकर शहर में उमड़ी भीड़ से शहर के हर चौक-चौराहा गुलजार रहा। शहर के मेन बजार चौक,सकरीगली,तालझारी,राजमहल,गांधी चौक जहां फल पूजा सामानों की बिक्री को लेकर दुकानदारों ने कतार में दुकानें लगाइ थी। बीते साल की तुलना में इस साल फल के दामों में इजाफा होने के बाद भी खरीदार पूरे उत्साह के साथ फल की खरीदारी करने में जुटे रहे। खरीदारी के दौरान ही बाजार में छठ पर्व को लेकर बज रहे प्रसिद्ध गीत व्रतियों के कानों में मिश्री घोल रहा था। बाजार में खरीदारी को लेकर उमड़ी भीड़ से जहां फल व्यापारियों में उत्साह नजर आया। वहीं दामों में इजाफा होने के बाद भी लोगों की ओर से फलों की खरीदारी खूब की जा रही है। सुबह से ही शहर के बाजार में खरीदारों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई थी। जो लगातार शाम तक खरीदारी में लोग जुटे रहे।

अलग-अलग रीति-रिवाजों के बावजूद सबको एक कर देता छठ पर्व

शहर में वर्षो से रह रहे मारवाड़ी और जैन परिवार के लोगों के साथ आम लोग भी छठ को पूरी श्रद्धा के साथ मना रहे हैं। भले ही लोग अलग-अलग रीति-रिवाज से जुड़े हैं, पर छठ महापर्व सभी को एक सूत्र में बांधकर एक कर देता है। पर्व को लेकर घरों में तैयारियां पूरी हो चुकी हैं।


फलों के भाव में आई तेजी

त्योहारको लेकर ही नहाय खाय के दिन गन्ना की डाली जहां प्रति जोड़ा 40 रुपए में बिका, वहीं उत्तम क्वालिटी का सेव प्रति किलो 80 रुपए में बेचा गया। जबकि नांरगी की कीमत भी 80 रुपए ही रही। केला प्रति कांदी 400 सौ रुपए के दर से बेचा गया। जबकि नारियल प्रति जोड़ा 60 रुपए के दर से बेचा गया। फलों के दुकान लगभग सभी स्थानों में दिखा। जहां कीमत भी लगभग एक समान था। बावजूद खरीदारों ने पूजा के लिए फलों की खरीदारी जमकर की। वहीं पूजा के सामान में सिंदूर, मिट्‌टी के दीया के अलावा पान के पत्तों के अलावा कई अन्य सामानों की ब्रिकी जम कर हुई।

सजा सूप-दउरा का बाजार, जुटने लगे खरीददार

लोक आस्था का पर्व छठ को लेकर मौसमी बाजार सज चुका है। बांस निर्मित सूप-दउरा को मौसमी बाजार में उपलब्ध हैं। इसकी खरीदारी शुरू हो गई है। गया, पूर्णिया व झारखंड से सूप, छांटी टोकरी व दउरा की खेप मंगाई गई है। संकल्प व्रत नहाय-खाय के दिन से सूप, दउरा व छांटी टोकरी की खरीददारी तेज हो गई है।

कीमतों पर एक नजर

सूप : 80 से 100 रुपये प्रति पीस

दउरा : 120 से 200 रुपये प्रति पीस

टोकरी : 100 से 180 रुपये प्रति पीस

पीतल सूप : 500 से 1100 रुपये

दउरा डबल बुनाई: 250 से 500 रुपये

आम लकड़ी व मिट्टी चूल्हा की बढ़ी मांग

छठ को ले सजे बाजार में खरना का प्रसाद व अर्घ्य के लिए ठेकुआ बनाने को आम की लकड़ी व मिट्टी चूल्हा की मांग बढ़ गयी है। मौसमी कारोबारियों की ओर से चौक-चौराहों पर सजायी गयी दुकानों में खरीददार आम की लकड़ी व मिट्टी चूल्हा को अब ग्राहकों की तरजीह मिले, इसका इंतजार है।काराबोरियों ने बताया कि आम की लकड़ी 140 से 150 रुपये के बीच प्रति पांच किलों की दर पर बिक रही है। मिट्टी चूल्हा 50 से 110 रुपये प्रति पीस बिक रहा है। मिट्टी चूल्हा की तरह लोहे की चादर से बना चूल्हा भी बाजार में उपलब्ध है। यह चूल्हा 250 से 600 रुपये के बीच प्रति पीस की दर पर उपलब्ध है। इसकी भी खरीदारी व्रतियों की ओर से की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *