आदिवासियों की हितैषी बनने वाली झामुमों की सरकार ने गोली चलवा ली दो आदिवासी की जानः रघुवर दास

आदिवासियों की हितैषी बनने वाली झामुमों की सरकार ने गोली चलवा ली दो आदिवासी की जानः रघुवर दास

नामांकन सभा को संबोधित करने पहुंचे मुख्यमंत्री रघुवर दास

दुमका। संताल परगना से झामुमों की दुकान बंद करना होगा। रांची और जमशेदपुर के सांसद और विधायक नहीं गांव के लाल को विधायक बनाना है। उक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने दुमका जिला के चार विधानसभा क्षेत्र के उम्मीदवारों के नामांकन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए एटीम ग्राउंड में कहा। उन्होंने साहिबगंज के बरहेट विधानसभा के तत्कालीन विधायक पर चुटकी लेते हुए कहा कि बीते दिनों जोहार जन आर्शीवाद योजना के तहत आयोजित कार्यक्रम में लोगों ने कहा कि विधायक हेमंत सोरेन आते ही नहीं है। मुख्यमंत्री ने जामा के लाल सुनील सोरेन को सांसद बनाने पर क्षेत्र की जनता को बधाई देते हुए जामा के लाल सुरेश मुर्मू को जामा विधानसभा से जिताने का अपील किया। झामुमों पर प्रहार करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि संताल परगना एक परिवार की जागिर बन कर रह गई है। झामुमों से संताल परगना को मुक्ति दिलाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि संथाल परगना में परिवारवाद और वंशवाद की राजनीति नहीं चलेगी। यहां स्थानीय आदिवासियों का राज चलेगा। मुख्यमंत्री ने तंज कसते हुए कहा कि संथाल परगना के सभी 18 सीट में एक भी सीट झारखंड मुद्रा मोचन पार्टी को नहीं मिलने वाला है। उन्होंने अपील करते हुए कहा कि झाममों का नाम अब झारखंड मुद्रा मोचन पार्टी हो गई है। जिसें एक भी सीट नहीं देने का अपील किया। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि 70 साल में कांग्रेस ने देश में राज किया। लेकिन लोगों को मूलभुत सुविधा मुहैया करवाने का प्रयास तक नहीं किया। उन्होंने कहा कि सरकार के उपलब्धियों को गिनाते हुए राज्य के शेष बचे 30 लाख घरों में बिजली मुहैया करवाया गया। उन्होंने कहा कि बिजली रहेगी तो बच्चे-बच्चियां पढ़ेगी, किसानों को खेतों के पानी मुहैया होगा। उन्होंने मजाकिया अंदाज में कहा कि बिजली रहेगी तो सास भी कभी बहु थी सिरियल महिलाएं देख सकेंगी। उन्होंने कहा कि दूर-दराज गांवों एवं पहाड़ों पर रह रहे पहाड़िया समुदाय के लोगों के लिए सरकार सोलर लाईट की व्यवस्था की। जिससे उनके बच्चे-बच्चियां पढ़ाई-लिखाई कर आगे बढ़ सकेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब तक कांग्रेस और झामुमों लूटेरा पार्टी बन कर रह गई है।

 

कोयला घोटाला सहित कई घोटालो की सरकार बनी कांग्रेस
पीएम नेहरू के काल का जिक्र करते हुए रघुवर दास ने कहा कि उस समय सबसे पहले जीप घोटाला हुआ। वर्ष 2014 से पहले पीएम मनमोहन सरकार में झामुमों सुप्रीमों दिशोम गुरू शिबू सोरेन के कोयला मंत्री बनने पर कोयला घोटाला, कॉमनवेल्थ घोटाला सहित कई घोटालों की सरकार बन कर रह गई। वर्तमान उज्वला योजना सहित अन्य जनकल्यारी योजनाओं को धरातल पर उतारने के लिए पीएम मोदी के कार्यो का सराहना करते हुए कहा कि रेलवे स्टेशन से चाय बेचकर प्रधानमंत्री बनने वाला गरीब का बेटा नें लोगों का दर्द महसूस किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि मां और बहनों को धुआं से होने वाले बिमारियों का ऐहसास कर टीवी और टाईफाईड जैसे बिमारियों से इजात को लेकर उज्जवला योजना के तहत गैस कनेक्शन दिलाया। डबल इंजन की सरकार में झारखंड सरकार ने डबल सिलेंडर देने वाला पहला राज्य है। जिसने गैस कनेक्शन के साथ डबल सिलेंडर देने का काम किया। अब तक 31 लाख राज्य के महिलाओं को गैस कनेक्शन दिया गया। अभी 10 लाख सिलेंडर राज्य की महिलाओं को देना बाकी है।
अमीर और गरीब में कोई अंतर नहीं होगा
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि अमीर और गरीब में कोई कोई अंतर नहीं है। उन्होंने कहा कि अगले तीन माह में 32 हजार स्ट्रीट लाईट, फेवर ब्लॉक, पानी, सोलर टंकी, पानी की समस्या का दर्द महिलाएं ही जान सकती है। उन्होंने कहा कि पीएम का सपना है कि वर्ष 2024 गांव-गांव में पानी पहुंचाना है। झारखंड में वर्ष 2022 हर घर में नल से पानी पहुंचेगी।

 

कुटुंब व्यस्थाओं का विवेचना भारतीय नारी में
देश नारी शक्ति का देश प्राचीनकाल से है। संथाल की धरती से फुलो-झानों, शहीद बेगानी के नाम दर्ज हो गई। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि ईश्वर देश के आजादी में मरने का मौका नही मिला तो क्या हुआ, देश के लिए जीने का मौका तो मिला है। झामुमों ने लोगों के भावनाओं को छला है। आदिवासी महिलाओं के खेती करने से लेकर संसार में अन्य महत्वपूर्ण भूमिका को गिनाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि महिला शक्ति में बहुत बड़ा सहनशक्ति है। भारत में कुटुंब व्यवस्था की विवेचना महिलाओं में ही है। जो भारत को वसुधैव कुटुंबकम की परंपरा को साबित करती है।

शिक्षित बेटी कई परिवार को करती है शिक्षित
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने 43 हजार स्वयं सेविका और 2,70 हजार सखी मंडल की नियुक्ति की बात कही। उन्होंने कहा कि यह महिलाएं राज्य के 80 हाजर बच्चों के ड्रेस सिलने का काम करेगी। एक नवंबर से राज्य में 500 करोड़ का रेडी टू ईट योजना के तहत बाहर से लाने वाले अब गांव में बनेंगे। जिसे राज्य के 38 से 40 हजार महिलाएं गांव में बना आंगनबाड़ी केंद्र पहुंचायेगे। जिससे बच्चों को सुधता वाला आहार मिलेगा और राज्य की अर्थव्यवस्था सुदृढ़ होगा। महिलाओं नाम सरकार ने एक रूपये में 50 लाख तक संपति के रजिस्टरी करवाने के योजना सहित बेटी-बचाओं, बेटी-पढ़ाओं योजना, अशिक्षा और अज्ञानता में कम उम्र में हो रहे आदिवासी बच्चियों लिए सुकन्या योजना सहित अन्य योजना सरकार ने घरातल पर उतारी है। उन्होंने कहा कि एक बेटी को शिक्षित कर कई परिवार को शिक्षित किया जा सकता है।

सीएनटी व एसपीटी एक्ट का उल्लंघन सबसे ज्याद झामुमों ने किया
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सीनटी व एसपीटी एक्ट का झामुमों पर उल्लंघन का आरोप लगाते हुए कहा कि रामगढ़ जिला के गोला निवासी बोकारों, दुमका, जमशेदपुर, पाकुड़ में कैसे जमीन खरीद सकता है। उन्होंने हाल में रांची में प्रकाशित खबरें कि जबरन आदिवासी की जमीन हड़पी गई। उन्होंने चुनाती देते हुए कहा कि वह भी मुख्यमंत्री रहे है, कोई बता दें कि एक भी जगह जमीन खरीदी हो।
कांग्रेस गठबंधन ने लूटने का काम किया
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने एक बार फिर झामुमों और कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि 14 साल में चोर, लूटेरा की पार्टी रही। कांग्रेस गठबंधन बना राज्य को लूटने का काम किया। मुख्यमंत्री ने नसीहत देते हुए कीमति मत को खस्सी-भात के लिए बर्बाद नहीं करने का अपील किया। उन्होंने अपील करते हुए कहा कि ऐसी पार्टियां को यह बता देने है कि गरीब जरूर है, बिकाउ नहीं। वोट बेचने की गलती नहीं करने को कहते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि खा लेना है, चुकी वह आपके पैसे का है। आपके खून पसीने के लूटे पैसे के है। लेकिन उनकों यह बता जरूर देना है कि गरीब बिकता नहीं है। उन्होंने चुनाव के दौरान ऐसे अमाजिक तत्वों के खिलाफ फोटो खिंच चुनाव आयोग को भेजने की अपील की। जिससे वोट खरीदनें वालों का षड़यंत्र नहीं चल सके।

 

आदिवासी-मूलवासी की राजनीति करने वाले बता दें एक भी आदिवासी का भला किया हो
मुख्यमंत्री रघुवर दास अलग झारखंड होने में देरी के कारणों का जिक्र करते हुए झामुमों पर पीएम नरसिम्हा राव की सरकार में गंभीर आरोप लगाते हुए न्यूक्रीयल डील में खरीद फरोत का आरोप लगाया। झामुमों सुप्रीमों शिबू सोरेन के मुख्यमंत्रित्वकाल को जिक्र करते हुए कहा कि आदिवासियों की हितैषी बनने वाली झामुमों ने काठीकुंड के आमगाछी में गोली चलाया। जिसमें शिकारीपाड़ा के दो आदिवासी की मौत हो गई थी। मुख्यमंत्री ने नवयुवकों से अपील करते हुए कहा कि आप पढ़े लिखे है, आने वाली पीढ़ी को सौगात देनाहै। अब अंगड़ाई लेने का समय आ गया है, संथाल परगना की धरती से झामुमों को उखाड़ फेकना है। उन्होंने कहा कि भाजपा गरीबों की सेवा करने आयी है, मेवा खाने नहीं। उन्होंने पिछड़ी और अनुसूचित जाति जिक्र करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज करवाया है। जिसमें 14 से 12 सीट भाजपा के झोली में आयी है। अब समय आ गया है झामुमों का असली चेहरा को समझने का। मुख्यमंत्री ने कहा कि खुले मंच से चुनौती है आदिवासी-मूलवासी की राजनीति करने वाला झामुमों को, एक भी आदिवासी का नाम बता दें, जिसका भला किया हो। उन्होंने आदिवासियों के धार्मिक स्थलों को राजकीय सम्मान देने सहित अन्य उपलब्धियां गिनाया। उन्होंने लोगों से ऐसे नेता को चुनाव के समय आने पर पूछने का अपील किया। भाषा और संस्कृति के दिशा में सरकार द्वारा एक पेपर को क्षेत्रिय भाषा में सीसैट के तहत मान्यता देने की बात कही। जिसे हेमंत सोरेन ने मुख्यमंत्री रहते रद्द कर दिया था। संताल भाषा के उत्थान के लिए कार्यालयों सहित स्कूलों में पढ़ाई प्रारंभ करने की उपलब्धि बताया। स्थानीयता नीति पर राज्य अलग होने के 14 साल बाद भी भाजपा सरकार ने एक निर्णय लिया।

सभी 81 विधानसभा सीटों के कमल फूलों का हार भाजपा को मिलेगी सौगात
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि मैन नहीं कहता हूं कि सारे वादे पूरा किया है, लेकिन विकास की गति तेज करने का प्रयास किया है। उन्होंने लोगों से सिर्फ और सिर्फ विकास के नाम पर मत देने का आह्वान करते हुए भटकने का नहीं सलाह दिया। एक बार फिर मौका देते हुए राज्य के सभी 81 सीटों पर कमल का फूल का हार सजाने का अपील किया। उन्होंने सुख-शांति के प्रतिक लक्ष्मी के वाहक कमल फूल पर अपना मत प्रयोग करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि सुख-समृद्ध के लिए कमल का फूल शुभ होता है।

 

विकास के मुद्दे को लेकर लोगों के बीच जायेगे: डा लुईस मरांडी

इधर दुमका विधानसभा उम्मीदवार डा लुईस मरांडी ने नामांकन कर उन्होंने पार्टी को मौका देने के लिए आभार प्रकट करते हुए कहा कि सरकार और उनके द्वारा किए पांच साल के कार्यो के आधार पर जनता मेरे साथ है। उन्होंने कहा कि मुद्दा सिर्फ विकास है। विकास के मुद्दे को लेकर लोगों के बीच जायेगे। पिछले 40 साल से दुमका पिछड़ापन के दर्ज झेल रहा था। उन्होंने कहा कि इस चीजों से उपर उठे है और भी काम शेष है। अधूरे काम को पूरा करना मेरा लक्ष्य है।

रूझान बताता है 65 पार नहीं भाजपा होगी 70 पारः सांसद सुनील
सांसद सुनील सोरेन ने चुनावी सभी को संबोधित करते हुए कहा कि चुनाव के माध्यम से किस्मत बदला जा सकता है। मौका है केंद्र और राज्य के विकास कार्यो को देख वोट करने का। उन्होंने भरोसा जताते हुए कहा कि पार्टी का 65 का नारा है, लेकिन रूझान और कार्यकर्त्ताओं का मनोबल यह बताता है कि इस बार 65 पार नहीं, 70 पार भाजपा करेगी। उन्होंने लोगों से भाषा और संस्कृति के रक्षा के लिए आगे आने का अपील किया। उन्होंने झामुमों पर वार करते हुए सीएनटी व एसपीटी एक्ट का उल्लंघन कर दुमका, पाकुड़ सहित अन्य जगहों पर भोले-भाले आदिवासियों का जमीन हड़पने का काम किया है।

भाजपा उम्मीदवारों में दुमका से डॉ लुईस मरांडी, जामा विधानसभा से सुरेश मुर्मू, शिकारीपाड़ा से परितोष सोरेन एवं जरमुंडी से देवेंद्र कुवंर ने नामांकन किया। नामांकन के बाद उम्मीदवार सभा स्थल पहुंचे, जहां मुख्यमंत्री रघुवर दास सभा को संबोधित कर रहे थे। प्रमुख नेता सहित उम्मीदवारों से जनसभा को संबोधित कर शहर भ्रमण कर देवी-देवताओं का आर्शिवाद ले जीत की कामना किया। इस अवसर जमशेदपुर के पूर्व सांसद शैलेंद्र महतो, अनुज आर्या उपस्थित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता निवास मंडल एवं मंच संचालन जिला प्रवक्ता अजय गुप्ता ने किया। इस अवसर पर जिला प्रवक्ता ओम केशरी सहित अन्य भाजपा कार्यकर्त्ता उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *